मोदी की बैठक में ममता ने कहा कि केंद्र का अफसर हमारे अफसर को परेशान करता है

देश में कोरोनावायरस और लॉकडाउन को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बात की। बैठक में कोरोना संकट और लॉकडाउन को लेकर चर्चा की गई और मुख्यमंत्रियों से बहुत से सुझाव मांगे। मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में पीएम मोदी ने राज्यों की तारीफ करते हुए कहा कि लॉकडाउन पर जरूरत के हिसाब से फैसले बदलने पड़े हैं।बैठक के शुरू होने के साथ ही सबसे पहले गृह मंत्री अमित शाह ने संबोधित किया इस के बाद पीएम मोदी ने अपनी बात रखी। इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने लॉकडाउन और अर्थव्यवस्था से जुड़ी कई चीजों पर मुख्यमंत्रियों के साथ विचार विमर्श कर उनकी राय जानी।
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जहां एक तरफ अंतरराज्यीय सप्लाई चेन को सुचारू रूप से बहाल करने की मांग की,इस दौरान पश्चिम बंगाल की CM ममता बनर्जी के तेवर जरा अलग नजर आए. उन्होंने कहा कि हम अमित शाह की बहुत इज्जत करते हैं लेकिन सेंटर का अफसर आकर हमारे अफसर को परेशान करता है. रोज नई-नई गाइडलाइन आती है. पढ़कर समझना मुश्किल हो गया है. हमको चिट्ठी लिखने से पहले मीडिया को मिल जाती है.गुजरात के सीएम विजय रूपानी लॉकडाउन बढ़ाने के पक्ष में नहीं हैं. जबकि कोरोना के सबसे ज्यादा केस के मामले में गुजरात दूसरे नंबर पर है. यहां अबतक 493 लोगों की मौत हो चुकी है.तेलंगाना समेत कुछ राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने 12 अप्रैल से चलने वाले विशेष ट्रेनों का विरोध किया है. उनका कहना है कि इससे कोरोना फैलने का खतरा और बढ़ेगा.तो इस तरह कई मंत्रियों ने सुझाव रखे तो कई ने विरोध भी किया |

0 Comments